Deva Ki Raasleela (Indian sex stories)-Part 70

प्रिया, हाँ देवा मै पागल हो जाऊँगी। मुझे नींद भी नहीं आ रही मुझे कुछ कर देवा मुझे कुछ कर। देवा की नज़र दरवाज़े की तरफ जाती है और उसे महसूस होता है की कोमल दरवाज़े की आड़ में छुपी हुई सब सुन रही है।। देवा, नहीं नहीं मै तुझे कुछ नहीं करुँगा तुझे कुछ हो गया तो। प्रिया, कुछ नहीं होंगा। मुझे कुछ करो ना …. देवा, मैंने कहा न मै कुछ भी नहीं करने वाला तुझे। मेरी बहन इस घर में आने वाली है । तू जा यहाँ से वरना मुझे तेरी माँ को आवाज़ देना पडेगा। प्रिया, हरामी कहीं के अगर तूने मुझे अभी के अभी कुछ नहीं किया न तो मै गांव वालों को बता दूँगी और तेरी बहन कभी इस घर में नहीं आ पाएगी।। देवा के दिमाग की बती जल जाती है अगर ममता की शादी इस घर में करनी है तो प्रिया का मुँह बंद होना बाहुत जरुरी था और उसका मुँह एक ही शर्त पर बंद किया जा सकता था उसके मुँह में लंड डाल कर। उस वक़्त देवा के लंड से अच्छी चीज़ वहां कोई नहीं थी। देवा, प्रिया की गर्दन पकड़ के उसे अपने लंड पर झुका देता है और उसकी कमर अपने मुँह की तरफ कर देता है । इस तरह दोनों एक दूसरे के लंड और चूत की तरफ घूम जाते है। प्रिया, अपने मुँह में देवा का लंड लेकर चुसने लगती है और देवा प्रिया की चिकनी चूत को चाटने लगता है गलप्प गलप्प। देवा, जानता था की अगर उसने प्रिया को चोद दिया तो गलत हो जाएगा। वो अभी कुँवारी थी और अगर वो पेट से हो गई तो उससे उसे शादी भी करनी पड़ सकती है। देवा, के दिमाग में एक बात बसी हुई थी की चोदो उसी को जो चुदने के बाद अपने गले में टाँगे न डाल दे। मतलब जिससे शादी न करनी पड़े। पदमा शालु और रश्मि को देवा ने इसलिए चोदा था की वो किसी और की अमानत थी और उन्हें चोदने से उसे उनसे शादी नहीं करने पडती। देवा, सिर्फ नीलम को अपनी दुल्हन बनाना चाहता था और किसी को नही। देवा, अपने दाँतो से प्रिया की चूत को कुरेदने लगता है।जवानी की आग में जलती प्रिया चीखने लगती है और कुछ ही पालों में देवा के मुँह पर उसकी चूत से गाढा गाढा पानी निकलने लगता है।
देवा, उसे अपने मुँह पर से हटा देता है और प्रिया अपनी चूत के दाने को सहलाती हुई झड़ने लगती है माँ मा आह्ह्ह्ह्ह्ह। कमला अपने बिस्तर पर से प्रिया को आवाज़ देती है। प्रिया अरे ओ प्रिया कहाँ गई। प्रिया, देवा की तरफ देखती है। देवा, जा तेरी माँ तुझे बुला रही है और प्रिया अपनी माँ कोमल के पास चलि जाती है। सुबह देवा नहा कर कोमल से मिलने आता है। उसके साथ देवकी भी थी। कोमल, दोनों को ऑंगन में बैठा कर चाय देती है। देवा, काकी मै आज गांव जा रहा हूँ। हमारे तरफ से ये रिश्ता पक्का समझो और मै चाहता हूँ की नूतन के साथ ही ममता की भी शादी हो जाए क्यूं मामी। देवकी, हाँ कोमल। एक बेटी गांव से जाएगी तो दूसरी गांव में आ जाएगी। तुम क्या कहती हो।। कोमल, अरे भाई मुझे क्या ऐतराज़ हो सकता है भला। देवा, तो ठीक है आप मामी के साथ अगले हफ्ते गांव आ जाइये वहीँ शादी की तारिख भी पक्की कर लेंगे। बहन की शादी है बहुत सी तैयारियॉ करनी है। कोमल, दिल तो तुझे भेजने को नहीं कर रहा मगर जानती हूँ तुझ पर सारी ज़िम्मेदारियाँ है। देवकी, हाँ देख न जबसे आया था मेरे पास रुका ही नहीं कोई बात नहीं बेटा बहन तेरी यहीं आने वाली है फिर तो रोज़ आना पडेगा तुझे। देवा, मुस्कुरा देता है। कुछ देर उनसे बातें करने के बाद देवा कौशल्या से भी मिलकर उसे घर आने का कहकर अपने गांव के तरफ चल देता है।
देवा देवकी और कौशल्या से विदाई लेकर अपने गांव अपने माँ रत्ना और बहन ममता के पास आ रहा था। की तभी उससे ख्याल आता है की सुनार के पास उसने कुछ सामान बनाने के लिए दिया था वो ट्रेक्टर को सुनार की दुकान की तरफ घुमा देता है। सूनार देवा को देखते ही उसकी चीज़ें उसे थमा देता है और अपनी चीज़ों को वैसे ही पाकर जैसा उसने सोचा था देवा दिल ही दिल में बहुत खुश होता है। वो पैसे देकर तेजी से अपने घर पहुंचना चाहता था। मगर सफ़र अभी बाकी था। देवा, शालू के घर के सामने से अपने घर की तरफ जा ही रहा था की उसे एक अजनबी आदमी शालु के घर से कुछ दूर अपनी मोटर साईकल पर सिगरेट पीता हुआ दिखाई देता है। देवा ने इससे पहले उस आदमी को गांव में कभी नहीं देखा था। वो जब उस अजनबी आदमी की आंखो का पीछा करता है तो पाता है की वो शालु के घर में देख रहा है और शालु के घर में नीलम और शालु कपडे धो रही है। शालु और नीलम दोनों का ध्यान उस आदमी की तरफ नहीं था वो और कोई नहीं विक्रांत था। अपने जान से भी ज़्यादा हरदिल अज़ीज़ नीलम को वो आदमी हवस की निगाहों से देख रहा था। ये देख देवा का खून गरम हो जाता है और वो विक्रांत के पास ट्रेक्टर रोक के नीचे उतर के विक्रांत के सामने खड़ा हो जाता है। विक्रान्त, देवा को ऐसे देखता है जैसे बस उसे इसी का इंतज़ार था। अगर वहां गांव के कुछ लोग नहीं होते तो शायद विक्रांत वहीँ अपने बन्दूक की 6 की 6 गोलियां देवा की छाती में उतार देता। देवा, कौन हो तुम वो गरज कर बोला था। विक्रान्त भी छाती चौडी करके उसकी ऑखों में देखते हुए कहता है। विक्रान्त सिंह नाम है मेरा। देवा, तुझे पहले गांव में कभी नहीं देखा। विक्रांत , क्यूँ तू यहाँ का हवालदार है जो हर एक की खबर रखता फिरता है । जा जा अपना काम कर। देवा, विक्रांत का कन्धा पकड़ के दहाडता हुआ उससे कहता है। तू जो कोई भी है और जहाँ से भी आया है एक बात अच्छी तरह से सुनले अगर दूबारा इस घर के आस पास भी फटका न ज़मीन में गाड दूंगा। समझा चल रास्ता नाप। विक्रान्त, तेरे माँ का बैदा मारू मुझे धमकी देता है साले। वो देवा पर झपटता ही है की उन दोनों की आवाज़ सुनकर गांव के दूसरे लोग भी वहां आ जाते है और शालु भी घर के बाहर आ जाती है।
शालु, देवा अरे देवा क्या हुआ देवा, विक्रांत को धक्का देकर पीछे ढकेल देता है। कुछ नहीं काकी ये साला मुझे ठीक नहीं लग रहा था इसलिए हालचाल पूछ रहा था इसके। शालु, अरे रश्मि नीलम देख देवा अपने मामी के घर से आ गया है। घर तो आ वहां क्या कर रहा है। देवा, बाद में आता हूँ काकी। पहले घर हो आता हूँ। देवा, विक्रांत को घूरता हुआ अपने घर चला जाता है और विक्रांत भी हवेली के तरफ निकल पडता है। देवा को देखते ही ममता भागते हुए आँगन में से दरवाज़े के पास आ जाती है और उछल कर देवा से लिपट जाती है। ममता , भैया मेरे भैया कब से घर आ रहे थे। माँ देखो भैया आ गए है। ममता की आवाज़ सुनकर रत्ना भी बाहर निकल आती है और जैसे ही देवा की नज़रें रत्ना से मिलती है दोनों की ऑंखों में एक चमक सी आ जाती हैं। देवा के वो शब्द की जब मै वापस आऊँगा तुझे अपनी माँ नहीं पत्नी बनाउंगा। रत्ना के कानो में गूँजने लगते है। देवा आगे बढाता है और रत्ना को अपने गले से लगा लेता है। माँ मुझे तेरी बहुत याद आ रही थी। रत्ना, मुझे भी बेटा बहुत देर कर दिया तुने आह। देवा, अपने मज़बूत हाथों से रत्ना की कमर को मसल देता है और धीरे से उसके कानो में कहता है। माँ मैं मंगलसुत्र लाया हूँ तेरे और ममता के लिये। ये सुनकर रत्ना का जिस्म थरथरा जाता है । होंठ सूखने लगते है और वो देवा से अलग हो जाती है। अब ये प्रेम एक तरफ़ा नहीं रहा था कुछ दिन पहले तक सिर्फ देवा अपनी माँ से प्यार करता था। मगर अब रत्ना के दिल के बंजर ज़मीन पर भी हलकी हलकी बुन्दा बाँदी होने लगी थी । उसे भी देवा के गैर मौजूदगी में एहसास हुआ था की देवा ही इस घर का असली करता धरता है। और वही है जो तन से मन से और धन से ममता और उसकी सारी इच्छाये पूरी कर सकता है। रत्ना, देवा को घर के अंदर ले आती है और तीनो बैठ कर बातें करने लगते है। रत्ना और ममता यहाँ की बातें देवा को बताने लगती है और देवा वहां की बातें सुनाता है। देवा से जब रत्ना को पता चलता है की उसे भी ये रिश्ता बहुत पसंद है और वो लोग अगले हफ्ते शादी की तारीख पक्की करने आने वाले हैं तो रत्ना का दिल ख़ुशी से झूम उठता है।
मगर ममता का दिल जैसे धडकना भूल जाता है उसे सबसे ज़्यादा गम अपने देवा से बिछड़ने का था। वो तीनो बातें कर ही रहे थे की वहां रश्मि और नीलम भी आ जाती हैं। देवा, अरे रश्मि तू कब आई। वो पूछ रश्मि से रहा था मगर नज़रें नीलम पर जमी हुई थी। नीलम शर्मा कर ममता के पास बैठ जाती है। रश्मी, मुझे तो आये पाँच दिन हो गये मगर तुम कहा थे। देवा, बस अपनी बहना के लिए उसका ससुराल देखने गया था। ममता वहां से उठकर अंदर अपने रूम में चली जाती है। रत्ना: मैं कुछ खाने के लिए लाती हूँ। नीलम, काकी आप बैठो मै ले आती हूँ। रत्ना, अरे हाँ अच्छा हुआ नीलम तू आ गई। मै तुझे संदेशा भेज के बुलवाने ही वाली थी। नीलम, क्यूँ काकी। रत्ना, अरे बेटा घर में अब मेहमानो का आना जाना शुरू रहेगा मै सोच रही थी की पीछे के जो दो नए कमरे हैं उनकी साफ़ सफाई कर लूं । आगे चल कर देवा की शादी के बाद काम आएंगे । देवा, माँ मेरी शादी कब करने वाली हो। रत्ना, बस शादी का नाम सुनकर ये ऐसे उछलता है जैसे बारिश में कछवे और मेंढ़क उछलते है। पहले बहन को बिदा तो कर दे उसके बाद ले अइयो जोरु भी। नीलम बुरी तरह शरमा जाती है और उसका शरमाना किसी से छुपता नही। देवा, नीलम एक अच्छी से चाय बना कर लाओ। दर्द से सर फटा जा रहा है मेरा। नीलम चाय बनाने चली जाती है और रत्ना कुछ घर के काम निपटाने अंदर चली जाती है। देवा, क्यों री साली क्या हाल है तेरा। रश्मी, सुख कर काँटा हुए पड़ी हूँ न भूख लग रही है न पानी पीने को मन कर रहा है। देवा, लगता है तेरा पति ठीक से ठोकता नहीं तुझे। रश्मी, नहीं न। इसलिए तो यहाँ आई हूँ ज़रा मेरे ज़ालिम से जी भर कर ठुक जाऊँ मगर तू है की मामी के वहां जा मरा था। देवा, इधर उधर देख रश्मि की ब्रैस्ट को मरोड़ देता है। तू चिंता मत कर साली आज रात तेरे घर पर जी भर कर करेंगे तेरी माँ के सामने। रश्मी, और नीलम कहाँ जाएगी। देवा, वो तू मुझ पर छोड दे। दोनो मुस्कुराने लगते है और देवा रत्ना से बात करने अंदर चला जाता है

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *